विद्युत अभियांत्रिकी विभाग

विभाग का संक्षिप्त परिचय :

विद्युत अभियांत्रिकी में एम. टेक. पाठ्यक्रम 19 अगस्त, 2005 को ए आई सी टी ई के अनुमोदन से पूर्वोत्तर के लिए प्रधानमंत्री मंत्री के सामान्य न्यूनतम कार्यक्रम के भाग के तौर पर प्रारम्भ किया गया। विभाग ने 24 छात्रों के प्रवेश क्षमता के साथ 4 सत्रीय एम. टेक कार्यक्रम संचालित किया। त्रिपुरा विश्वविद्यालय का अभियांत्रिकी विभाग अपने प्राध्यापक वर्ग के अतिरिक्त बाह्य संसाधनों की सुविधाओं का अद्वितीय लाभ उठा रहा है। देश के प्रमुख विश्वविद्यालयों तथा संस्थाओं के कुछ ख्यातिप्राप्त शिक्षक त्रिपुरा विश्वविद्यालय में नियमित रूप से अभियांत्रिकी विभाग के पाठ्यक्रम के अध्यापन के लिए आते हैं। वे स्वभाव से बहुत सहृदय और सहयोगी होते हैं तथा त्रिपुरा विश्वविद्यालय के एम.टेक कार्यक्रम में अपना शैक्षिक सहयोग देने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। विद्युत अभियांत्रिकी विभाग की प्रयोगशाला काफी सुसज्जित हैं। आधुनिक सॉफ्टवेयर जैसे ई-टेप, पीएससीएडी, लैब व्यू आदि इस विभाग के कम्प्यूटरों में स्थापित हैं तथा लेन में उपलब्ध हैं । विभाग का उद्देश्य गुणवत्तापूर्ण मानव शक्ति का निर्माण जिसके लिए नैतिक और सामाजिक मूल्य, तकनीकी दक्षता तथा सामाजिक चरित्र, आत्मविश्वास, नेतृत्व, रचनात्मकता के लिए आवश्यक हैं तथा त्रिपुरा, पूर्वोत्तर भारत एवं समग्र भारत के विकास के लिए आवश्यक हैं ।

स्थापना वर्ष :

2005

विभागाध्यक्ष :

डॉ. चम्पा नन्दी (प्रभारी)

 

कुल विजिटर्स की संख्या : 4978756

सर्वाधिकार सुरक्षित © त्रिपुरा विश्वविद्यालय

अंतिम अद्यतनीकरण : 24/06/2024 02:03:41

रूपांकन एवं विकास डाटाफ्लो सिस्टम