मानव शरीर विज्ञान विभाग

विभाग का संक्षिप्त विवरण :

मानव शरीर विज्ञान विभाग सन 2007 में स्थापित हुआ था तथा यह विभाग मानव स्वास्थ्य और कल्याण कोसमुन्नतकरने के लिए शिक्षा और जैव चिकित्सा अनुसंधान में उत्कृष्टता के लिए प्रयास करता है। वर्तमान में इस विभाग में चार पूर्ण कालीन शिक्षक ,चार गैर शिक्षण कर्मचारी और 10शोध फेलो को मिलाकर सम्पूर्ण 18 सदस्य है । वह मूलभूत सिद्धांत जो कि मानव शरीर विज्ञान के अध्ययन के लिए नींव या आधार प्रदान करता है, वह है मानव शरीर का गठन और कार्य(कोशिका,उतक, अंग तथा अंगतंत्र) के अनुक्रम का सभी स्तर पर जटिल नियंत्रण प्रणालियो के क्रियान्वयन के द्वारा होमियोस्टैसिस का रखरखाव। अत : यह पाठ्यक्रमअध्ययनसूची में मानवशरीर गठन और कार्य के साथ साथ मानव शरीर के सम्पूर्ण अध्ययन पर भी जोर देता है। मानव शरीर विज्ञान विभाग के संकाय सदस्य स्नातकोत्तरीय छात्रों के शिक्षण में महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। शिक्षण के साथ, शरीरविज्ञान विभाग के प्राध्यापक कोशिका और उतकों के मौलिक कार्यो पर उत्कृष्ट और अत्यंत विकसित अनुसंधान को भी प्रगति प्रदान कर रहे हैं। इनमेंनवीन उपचारात्मक दृष्टिकोण का विकास करने के लिए विज्ञान के आधारभूत अनुसंधानों को क्रियान्वित करने तथा रोगों के कोशकीय और आणविक आधारों के अध्ययन में गहरी रुचि भी है।

स्थापना वर्ष :

2007

विभागाध्यक्ष :

डा. समीर कुमार सील

 

 

कुल विजिटर्स की संख्या : 4978752

सर्वाधिकार सुरक्षित © त्रिपुरा विश्वविद्यालय

अंतिम अद्यतनीकरण : 24/06/2024 02:03:41

रूपांकन एवं विकास डाटाफ्लो सिस्टम